Monday, March 21, 2011

Kashmir ; keshar kyari



Adam-khor insano ka aao atank mitana he,
kashmir keshar kyare se in dhabbo ko hatana he.
Ye dushman manavta ke khelte khooni holi,
beraham barsate hai nirdosho par goli,
beera jaago waqt aa gaya ,
inko sabak sikhana hai,
kashmir keshar kyare se in dhabbo ko mitana he..
kiya kathin jina sabka,,
be-ghar--bar kar daala...
kin janmo ka badla haay!
in jalimo ne nikala..
in armano ka dum
inko hme batana hai
kashmir keshar kyare se in dhabbo ko mitana he...
yeh dharti ka swarg hai ,
rahe dur darindo se.
madhuvan ujad na paaye kabhi ,
in ghatak parindo se..
pyare se is  swaroop ko
aao hame bachana hai...
kashmir keshar kyaare se in dhabbo ko mitana hai...............

4 comments:

  1. है नमन उनको की जो यशकाय को अमरत्व देकर
    इस जगत के शौर्य की जीवित कहानी हो गये
    है नमन उनको की जिनके सामने बौना हिमालय
    जो धरा पर गिर पडे पर आसमानी हो गये
    Never forget the Sacrifice of our Brave Heroes..... Love your Nation.. Jai Hind

    ReplyDelete
  2. कर गयी पैदा तुझे उस कोख का एहसान है
    सैनिकों के रक्त से आबाद हिन्दुस्तान है
    तिलक किया मस्तक चूमा बोली ये ले कफन तुम्हारा
    मैं मां हूं पर बाद में, पहले बेटा वतन तुम्हारा
    धन्य है मैया तुम्हारी भेंट में बलिदान में
    झुक गया है देश उसके दूध के सम्मान में
    दे दिया है लाल जिसने पुत्र मोह छोड़कर
    चाहता हूं आंसुओं से पांव वो पखार दूं
    ए शहीद की मां आ तेरी मैं आरती उतार लूं
    वंदे मातरम !
    जय हिंद!

    ReplyDelete
  3. sahi..aapke wichar ekdam ssf hai.bhasha aur likhneki style to aap ki khassyat hai..

    ReplyDelete