Sunday, May 20, 2012

Dowry 'दहेज - एक प्रथा या एक दानव'


Saw today's Episode of #SatymevJatye Felt so touched, felt bad for victims & those demons..Hats Off to Amir Khan
Just these few lines came out of the heart & presenting here for all of you Have a read & give reviews.....


हैं लोग यहा धन मतवाले तन के उजले मन के काले,
रिश्तों का जो व्यापार करे
जहाँ बेटी की लगती बोली, पैसों में आती बहू डोली
उस देश का यारो हैं चर्चा, क्या बेटी है बाबुल का खर्चा ?

जब कोई भी यहा बाप बने हो बेटी तो क्या अभिशाप गिने
बेटी की आयु बढ़ती हैं पिता की आयु घटती हैं
देंगे दहेज कैसे भारी, बेटी को ब्याहना क्या बीमारी ?
उस देश का यारो हैं चर्चा, क्या बेटी है कर्जे का परचा ?

बाते चलती मनुहारो से होते सौदे व्यापारों से
कर्जे से लाता धन उधर पुरे करता सारे करार
उस देश का यारो हैं चर्चा, क्या बेटी है बाबुल का खर्चा ?

जब आती बेटी की चिट्ठी गुम हो जाती सिट्टी पिट्टी
सब मुझको बहुत सताते हैं धन लाने को धमकाते हैं
पर बाप कहाँ दे पाता हैं ?
पहले का नहीं चुक पाता हैं.
उस देश का यारो हैं चर्चा, क्या बेटी है बाबुल का खर्चा ?

फिर आया वो संदेशा था जिसका सबको अंदेशा था
जल गई बहु लाचार बनी दैत्यों की निरीह शिकार बनी
मानव ने दानव रूप धरा
लालच में कैसा मरा –गिरा
सुन लो दहेज के लोभी सब
नहीं माफ करेगा तुमको रब !! 

बहुओं को हर घर प्यार मिले बेटी के सम सत्कार मिले
उस घर में वैभव धन होगा.
सबका सुखमय जीवन होगा
उस देश का यारो हैं चर्चा, जहाँ बहु का हो ऊँचा दर्जा 

1 comment: