Tuesday, April 7, 2015

THAT Shirt

वो पहली शर्ट.
तेरे जन्मदिन की खतिर तेरे लिए वो शर्ट लेना।
आज भी याद हैं मुझको
उस दुकानदार के आगे थोड़ा सा लजाना
और ढेर सा शर्माना।
पूछने पर तेरी साइज न बता पाना।
और अपनी बांहे फैला कर याद करने की कोशिश करना
कि कितना समाता था इस दरमियान तू।
काउंटर पर खड़े उस लड़के से ये पूछना कि
ये शर्ट तुझे सूट करेगी या नहीं।
और उसका तेरी कद काठी के बारे में पूछना।
मेरा शरमाना और तुझे मोस्ट हैंडसम मैन ऑफ़ द वर्ल्ड कहना।
चेंजिंग रूम में जाकर वो शर्ट खुद पहनना और
अपने अपने अंदर तेरी छवि को इठलाता पाकर वो
शर्ट खरीद लेना।
पाई थी मैंने कायनात जब उस शर्ट को देख कर
तेरी आँखों में चमकते देखे थे हजारों सूरज एकसाथ।
आशिता दाधीच
 
 
 
 
 

1 comment: