Saturday, April 18, 2015

दर्द The Pain

हाँ दर्द होता हैं।

दर्द होता हैं जब महीनों की मेहनत से संवारा हुआ एक नाख़ून टूट जाता हैं।
 दर्द तब भी होता है जब बरसों से संवारे रिश्ते झट से जात धर्म के नाम पे टूट जाते हैं।

दर्द होता हैं उन पांच दिनों तक जब माहावारी होती हैं।
दर्द तब भी होता है जब इसी खून से जना बेटा घर से निकाल देता हैं।

दर्द तब भी होता है जब आएब्रो बनवाने की असीम पीड़ा से दो चार होते हैं।
 दर्द तब भी होता है जब अखबार में पेट में पलती किसी बेटी की मौत की खबर होती हैं।

दर्द तब भी होता है जब चमड़ी पर मोम से जलता वैक्स डाला जाता है।
दर्द तब भी होता है जब बहु बनने पर हमें जला दिया जाता हैं।

दर्द तब भी होता हैं जब अपनी फेवरिट ड्रेस फट जाती हैं।
दर्द तब भी होता है जब किसी का दुप्पटा फाड़ने की कोशिश की जाती हैं।

दर्द तब भी होता है जब हम अपनी ही ड्रेस में नहीं समा पाते हैं।
दर्द तब भी होता है जब किसी के कपड़े तार तार फाड़े  जाते हैं।

दर्द तब भी होता है जब हमारी गुड़िया टूट जाती हैं।
दर्द तब भी होता हैं जब हमारी भावनाएं मरोड़ दी जाती हैं।

दर्द तब भी होता है जब वो प्यार से बांह उमेठ देता हैं।
दर्द तब भी होता है जब अपने हाथ थकने तक वो बेल्ट से मारता हैं।

दर्द तब भी होता है जब व्हिस्पर खरिदने पर हमारा मजाक बनता हैं।
दर्द तब भी होता है जब कपड़ो के बूते वो हमे कुलटा कहते हैं।

हाँ तब भी दर्द होता हैं
बहुत दर्द होता हैं।
क्यों हमे ही यह दर्द होता हैं?
और क्यों हमें ही ये दर्द दिया जाता हैं।

©आशिता दाधीच

#Instant #Blog #Poem #AshitaD #AVD

1 comment: