Tuesday, April 7, 2015

AIDS

लगभग एक साल से नीरज के साथ लिव इन रिलेशन में थी सिया। एक दिन अचानक उसने सुनीता का हाथ थाम लिया और सिया को दिल से निकाल कर उस के घर से निकल गया। गम में आकंठ डूबी सिया को भी बस हाथों की नस काट कर मौत को गले लगाना ही नजर आया।

खून रिसता रहा और सिया बेहोशी में डूबती गई। आँख खुली तो खुद को अस्पताल में पाया।

क्या कभी ब्लड डोनेट किया हैं या इजेक्शन लिया हैं कोई। नर्स ने गोली की तरह सवाल दागा।

नहीं तो कभी नहीं सिया बोली।

ओके पर तुम एचआईवी पोजीटिव हो।

सिया की आँखों के आगे अन्धेरा छा गया। कुछ समझ नहीं आया। कहि नीरज गलत तो नहीं था दिल से आवाज आई। छि छि वो ऐसा नहीं हो सकता। शायद मेरी ही कहि कोई चुक हैं सिया बस खुद को धिक्कारती रही।
 

1 comment: